शरद का चाँद

सुन्दर चमकता चाँद
देखेंगे शरद का आप हम
छत पर चलेंगे रात के
नौ-दस बजे के बीच हम।
मांग लेंगे चाँद से
दाम्पत्य जीवन में बहारें,
चाँद की सुन्दर चमक
को आप हम खुद में उतारें।

Related Articles

हम स्कूल चलेंगे

शीर्षक:- ‘हम स्कूल चलेंगे’ हम स्कूल चलेंगे जहाँ हम खूब पढ़ेँगे, सीखेंगे अच्छी बातें और पायेंगे ज्ञान, पढ़ लिखकर हम बनेंगे अच्छे और महान, हाँ,…

Responses

  1. “मांग लेंगे चाँद से दाम्पत्य जीवन में बहारें,चाँद की सुन्दर चमक
    को आप हम खुद में उतारें।” शरद के चांद पर बहुत सुंदर कविता
    और दाम्पत्य जीवन में खुशियां मांगने की बहुत ही ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति । बेहतर शिल्प के साथ बेहद शानदार रचना

New Report

Close