शहादत को नमन

शत्रु को तोड़ कर लेटा,
तिरंगा ओढ़ कर बेटा
भारत मां की हर मां का ,
सीना फटता जाता है
जब किसी का लाल तिरंगा ,
ओढ़ के आता है
बूढ़े बाप ने देखा जब,
तो आंखों से आंसू निकल गए
बोला मेरी लाठी टूटी,
कैसे अब जिया जाए
दो मासूम पूछे मां से,
पापा क्यों खामोश से हैं
हमें पुकारते भी नहीं है,
नींद में क्यों आए हैं
पत्नी का सिंदूर मिटा जब,
मुंह को कलेजा आ गया
बिंदी भी हटा दी उसकी,
कंगन भी उतार दिया
आंखें सबकी हो गई नम,
तिरंगे में लिपट कर जो आए
उनकी शहादत को नमन

*****✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

“बेजुबानों की कुर्बानी”

खूब मनाओ तुम खुशी(कुंडलिया रूप)

हे ऊपरवाले ! तू अब तो जाग..

*बेटी का विश्वास*

6 Comments

  1. Pragya Shukla - December 1, 2020, 12:08 am

    आपकी सबसे मार्मिक रचना
    यह सत्य किसी से नहीं छुपा कि एक सैनिक जब शहीद होता है तो उसके परिवार पर क्या गुजरती है

    • Geeta kumari - December 1, 2020, 12:19 am

      समीक्षा के लिए धन्यवाद प्रज्ञा जी

  2. Rishi Kumar - December 1, 2020, 8:41 am

    प्रणाम🙏 💐

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 1, 2020, 1:34 pm

    अति, अतिसुंदर

Leave a Reply