शायरी संग्रह भाग 3

मेरे इलाही मेरे रक़ीब को सलामत रखना। वो भी रोयेंगे मेरे मह़सर में।।1।।
 विकास कुमार कमति

मेर रक़ीब मेरे माशुक को गुल दे दो। वो समझेंगे हमराह शव-ए-विशाल है।।2।।
 विकास

मेरे इलाही मेरे माशुक को मेरे रक़ीब से मिला।
मैं चाहता, उनके चेहरे पर तब़सूम हो।।3।।
 विकास कुमार

किसी वज्म़ में मेरे रक़ीब ने मेरा कलाम सुनाया। सुनके अश्क भरे आये, मेरे महब़ुब की।।4।।
 विकास कुमार

मेरे मर्ग पर रोयेंगे मेरे रकीब भी। देखेंगे मेरे नवाज भी।।5।।
 विकास कुमार

मेरे रक़ीब रहीम-ओ- करीम ले।
वो हिमायत करेंगे जहां की।।6।।
 विकास कुमार

सुराग-ए-जिन्दगी कुछ यूँ हुआ।
नवाजिश आज बातिल बना।।7।।
 विकास कुमार

मेरे रब हमें ताकत-ए-परवाज दें की। मैं रकीब के लिए नूरी बनूँ।।8।।
 विकास कुमार

किसी अंजुमन में सुराग-ए-जिन्दगी का चला। किसी फक़ीर ने रहीम-ओ-करीम का नाम लिया।।9।।
 विकास कुमार

मेरे रहीम हमें वो इबादत दें कि।
मैं तेरे घर से तेरी जीऩत चुरा लूँ।।10।।
 विकास कुमार

मेरे इलाही, मेरे खुद़ा ! हमें वो इबादत दे। मैं खूद में देखूँ तेरी जीऩत देखूँ।।11।।
विकास कुमार

मेरे नवाजीश मैं तेरा इबादत करता। हमें सुराग-ए-जिन्दगी बता।।12।।
 विकास कुमार

किसी अंजुमन में अब अपनी वस्ल न होगी। लव-ए-दार हूँ, जरा जीनत़ दिखा मेरी जां।।13।।
 विकास कुमार

थक गया मय पी-पी कर।
फैक-मस्ती में लुप्त-ए-बहार अच्छा नहीं।।14।।
 विकास कुमार

तेरे बगैर अंजुमन में लुप्त-ए-बहार अच्छा नहीं। तेरे बगैर शव-ए-विसाल, लव-ए-दार है।।15।।
 विकास कुमार कमती।।

आजकल तेरे दीदार होते नहीं, लगता है, तेरी आँखें बेवफा हो गई।16।।
 विकास कुमार

तेरे वज्म़ में हम भी आयेंगे, तू तौहिन करना मेरी मुफ़लिसी की।।17।।
 विकास कुमार

हमराह दुआ करेंगे, अपने ईलाही से, हमें गमे-ए-जहां दे। और अपने बंदे को फुर्शत-ए-गुनाह दें।।18।।
 विकास कुमार

मेरे रक़ीब कहते मेरी माशुक ने तो तुझे रुसव़ा कर दिया। मेरे यार कहते है, तेरी जान ने तो तुझे फुर्शत-ए-गुनाह दी।।19।।
 विकास कुमार

मेरे माशुक मेरी मुफ़लिसी की तौहीन करना। मैं चाहता, तेरे रक़ीब अपने आँगन में दो गुल देंखे।।20।।
 विकास कुमार

हमें शर्म नहीं रुसवाई की, तू और तौहीन कर मेरी मुफ़लिसी की ।।21।।
 विकास कुमार

कभी आया करो, मेरी जां, हम मुफ़लिसों के घर, हम पानी नहीं, प्रीत के अश्रु पीलाते हैं।।22।।
 विकास कुमार

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close