शायर Rajneeshy

मैं वो तस्वीर नहीं जो आइने से गुजर जाता हूँ
खुश्बू भी नहीं जो लोगो मे बिखर जाता हूँ
बिखरती हैं शामे दिन निकलने से पहले
मै शायरी हूँ जो हर पन्ने पे उतर जाता हूँ

Related Articles

शायर

शायर 🌺——🌺 शब्दों के तीरों से भरे तरकश सा व्यवहार करते हैं… शायर भी क्या खूब यार करते हैं। एक एक तीर से घायल हजार…

Responses

New Report

Close