शौक

आसुओं के पानी से जितना धुलता जाता हूँ मैं,
लोग जितना रुलाते हैं उतना खुलता जाता हूँ मैं,

देखने में सबको बेशक बड़ा नज़र आता हूँ मैं,
सच ये के हर पल बचपन में मुड़ता जाता हूँ मैं,

शौक तो खामोशी का ही पाल के रखता हूँ मैं,
पर जब भी बोलता हूँ बोलता चला जाता हूँ मैं।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Shyam Kunvar Bharti - October 6, 2019, 8:11 am

    वाह वाह बहुत खूब

  2. देवेश साखरे 'देव' - October 6, 2019, 9:34 am

    वाह

  3. NIMISHA SINGHAL - October 6, 2019, 12:36 pm

    बहुत खूब

  4. Poonam singh - October 6, 2019, 8:52 pm

    Wahh

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 7, 2019, 11:13 am

    वाह बहुत सुंदर रचना

Leave a Reply