*श्याम ! कभी गोपी बनके तो देखो*

अगर राधा ना होती तो
श्याम से प्रीत कौन करता ?
अगर मीरा ना होती तो
भक्ति के पद कौन गाता फिरता ?
यही तो है प्रेम में हमेंशा
नारियों ने अपने आपको
सराबोर कर दिया है,
केवल प्रेम किया और कुछ नहीं किया
ओ श्याम ! कभी गोपी बन के तो देखो
जैसा प्रेम राधा ने किया
वैसा प्रेम करके तो देखो
जैसे सुध-बुध खोकर गोपियों ने प्रतीक्षा की
वैसे ही सुध-बुध खोकर तो देखो
तब जानोगे तुम *प्रेम की पीर मोहन !
तुम चैन से वंशी बजाना छोंड़ दोगे..


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Geeta kumari - November 20, 2020, 10:41 am

    “केवल प्रेम किया और कुछ नहीं किया ओ श्याम ! कभी गोपी बन के तो देखो”
    बहुत सुंदर पंक्तियां ,नारी के समर्पण भाव को दर्शाती हुई बहुत सुंदर रचना

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 21, 2020, 8:27 am

    अतिसुंदर भाव

Leave a Reply