‘सच’ बस तु हौले से चल…

वो पलकों की सजावट से,
वो गलतियों की बिछावट से,
दिखावटी फिसलन की दौड़ में….
मैं नदी से हौसला भर लाऊंगा,
‘सच’ बस तु हौले से चल…
मैं पगडंडी से दूर निकल जाऊंगा||

ऐ जिंदगी तु बतला तो सही,
प्रीत का कितना है फासला???
हो रही जो झूठ की बौछारें,
कितना है नम अब रास्ता,
आत्मविश्वास का छाता लिए…
मैं अपनापन सहज लाऊंगा,
‘सच’ बस तु हौले से चल…
एक दिन मैं मंजिल पर पहुँच जाऊंगा||

अंधेरा घना जो अब छा रहा…
कदम भी थोड़ा डगमगा रहा,
ऐ गति, कुछ पल तु ठहर जरा,
गम की इन मावस रातों में…
मैं एकादशी का चांद बन जाऊंगा,
जिंदगी भी पलकें उठा देखेगी…
जब मैं आसमां से मुस्कराऊंगा,
‘सच’ बस तु हौले से चल…
मैं रोज प्रभात भी जगमगाऊंगा ||

गर्वित नाम की खोज मे…
काम के थकाऊं बोझ मे,
स्मरण है वो माँ का चेहरा…
है वादा इस भागदौड़ मे,
मैं लोटकर भी जरुर आऊंगा…
‘सच’ बस तु हौले से चल…
मैं खुशी का घर भी बनाऊंगा||
– सचिन सनसनवाल ©


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

अब जितने भी अल्फाज है , मेरी कलम ही मेरे साथ है |

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

2 Comments

  1. Geeta kumari - February 9, 2021, 9:27 pm

    सत्य पर आधारित बहुत सुंदर और प्रेरक कविता

  2. Md. Shahabuddin - February 13, 2021, 9:59 pm

    अत्यन्त सराहनीय
    बहुत खूब

Leave a Reply