सभी सो रहे

कविता- सभी सो रहे
—————————-
सभी सो रहे हैं,
घरों में पड़े हैं|
हम ही हैं दीवाने,
अभी जग रहे हैं|
बड़ा दुख है हमको
जो जग रहे हैं।
दिखे ना किनारा,
चले जा रहे हैं।
सभी के घरों पर,
समय पर है भोजन|
हम है छात्र,
धुले ना है बर्तन|
बजे बारह रात जब,
सब्जी बन रही है|
लिए हाथ कॉपी,
पढ़ाई हो रही है|सभी…..
कई वर्ष बाद में,
पेपर है आया|
नकल हुआ भारी,
न्यूज़ पेपर रद्द बताया|
बड़े-बड़े माफिया,
नकल कराते हैं
रिश्ते में पड़कर टीचर,
वजूद बेच देते हैं|
देख के घटना हम
बैठे रो रहे हैं |सभी…
हमारा क्या होगा,
पापा कर्ज भर रहे,
छात्र जीवन में,
कुछ भूखे सो रहे |
छोटे-छोटे रुम में,
कई रह रहे हैं|
डिग्री भी भारी लेकर,
जहर खा रहे क्यूं|
PHD धारी देखो,
बेरोजगार क्यूं|
नेता सभी बैठे,
मजा कर रहे हैं|
अपराधी माफिया,
मंत्री बन रहे हैं|सभी….
—————————-
**✍ऋषि कुमार ‘प्रभाकर’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

11 Comments

  1. Geeta kumari - October 26, 2020, 6:15 pm

    अति सुन्दर भाव और सम सामयिक यथार्थ चित्रण किया है कवि ऋषि जी ने

  2. Satish Pandey - October 26, 2020, 7:12 pm

    बहुत सुंदर ऋषि वाह

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 26, 2020, 9:07 pm

    बहुत खूब

  4. Suman Kumari - October 27, 2020, 1:33 am

    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

  5. Pragya Shukla - October 27, 2020, 2:39 pm

    सुंदर तथा यथार्थ अभिव्यक्ति..
    आपने काव्य पाठ में चार चाँद लगा दिये

    • Rishi Kumar - October 27, 2020, 8:57 pm

      Tq
      ऐ आप की महानता है प्रज्ञाजी, चार चांद तो आप ने लगाया था कविता पढ़कर ,हमें बहुत अच्छी
      थी आप की रचना

      • Pragya Shukla - October 28, 2020, 1:42 pm

        आभार आप सहृदय हैं इसलिए ऐसा कह रहे हैं
        बाकी मेरी नजर में मेरा परफार्मेंस सबसे खराब था.. क्योंकि हड़बडा़हट में पता नहीं क्या-क्या बोला मैंनै..
        अगली बार बेहतर करूंगी…

Leave a Reply