समझ

किसी सांचे में भी ढल नहीं पाया हूँ मैं,
शायद ठीक से ही बन नहीं पाया हूँ मैं,

वक्त बेशक ही लगा है मुझको बनाने में,
पर सच है खुद को बदल नहीं पाया हूँ मैं,

तोड़ा-जोड़ा भी गया हूँ कई बार ऊपर से,
कभी भीतर से मगर संभल नहीं पाया हूँ मैं,

मैं रिश्तों से हूँ या रिश्ते मुझसे हैं कायम,
उलझन ये है के कुछ समझ नहीं पाया हूँ मैं॥
राही (अंजाना)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. ज्योति कुमार - November 28, 2018, 7:15 pm

    सुन्दर ।

Leave a Reply