समन्दर

मुझको यूँ कुचलने पर तुम्हें वो समन्दर नहीं मिलेगा,
तुम्हारी आँखों को जो चाहोगे वो मंज़र नहीं मिलेगा,

बड़ी बेरहमी से मुझे रास्तों पर छोड़कर जाने वालों,
तुम्हें ढूंढने से भी इस जहां में कोई घर नहीं मिलेगा,

मैं तो कबूल भी ली जाऊगी किसी न किसी दर पर,
के याद रहे तुम्हें तुम्हारा कोई भूलकर नहीं मिलेगा।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 1, 2019, 10:47 pm

    वाह बहुत सुंदर

  2. Poonam singh - October 2, 2019, 11:29 am

    Good

  3. Sahendra Singh - October 2, 2019, 3:53 pm

    बेहद लाजवाब

  4. Shyam Kunvar Bharti - October 2, 2019, 10:28 pm

    वह वह मंजर न मिलेगा

  5. nitu kandera - October 4, 2019, 10:20 am

    Nice

Leave a Reply