सर्दियों की धूप-सी

सर्दियों की धूप सी
लग रही है यह घड़ी

यह जो नया एहसास है
अजनबी है अजनबी

सुना है मन वीरान है
मेरा जहां आज क्यूं

यादों में है डूबा दिल
ना आ रहा है बाज क्यूं

नजरें कर रही है इज़हार
दिल में दबा है राज क्यूं

कहने थे जो लफ्ज़
बदला है हर अल्फाज क्यूं

सर्दियों की धूप में भी
इतनी धुंध छाई आज क्यूँ

सर्दियों ने ओढ़ ली है
धूप की चादर अभी

धूप है आँगन में उतरी
बन के दुल्हन आज क्यूँ

धीमी-धीमी उजली-उजली
महकती है आज क्यूँ

ये गुलाबी सर्दियाँ भी
मन को हैं कितना लुभाती

कोहरे में कांपते हैं
आज मेरे हाँथ क्यूँ

मन पर है छाई उदासी
इतने अर्से बाद क्यूँ ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

67 Comments

  1. Abhishek kumar - December 9, 2019, 8:06 pm

    अति सुन्दर रचना बहन जी

  2. Abhishek kumar - December 9, 2019, 8:07 pm

    Nice

  3. Abhishek kumar - December 9, 2019, 8:07 pm

    Touching lines

  4. Abhijeet Shukla Sitapur - December 9, 2019, 8:15 pm

    Good

  5. Abhijeet Shukla Sitapur - December 9, 2019, 8:15 pm

    Nice

  6. Manu Shukla - December 9, 2019, 8:16 pm

    Very good

  7. Manu Shukla - December 9, 2019, 8:16 pm

    Superb

  8. Abhijeet Shukla - December 9, 2019, 8:17 pm

    Nice lines

  9. Pratishtha Shukla - December 9, 2019, 8:18 pm

    Sundar lekhan

  10. Pratishtha Shukla - December 9, 2019, 8:19 pm

    Awesome

  11. Anita Mishra - December 9, 2019, 9:58 pm

    खूबसूरत कविता

  12. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 10, 2019, 7:18 am

    Nice

  13. Abhishek kumar - December 10, 2019, 9:33 am

    Sundar lines

  14. Ashmita Sinha - December 10, 2019, 1:34 pm

    Nice

  15. देवेश साखरे 'देव' - December 10, 2019, 3:14 pm

    बहुत खूब

  16. Akhilesh Kumar - December 11, 2019, 4:33 pm

    Good

  17. Akhilesh Kumar - December 11, 2019, 4:33 pm

    Awesome

  18. Akhilesh Kumar - December 11, 2019, 4:34 pm

    Touching lines

  19. Abhishek kumar - December 11, 2019, 4:42 pm

    Clear expression

  20. Abhishek kumar - December 11, 2019, 4:43 pm

    सुन्दर और सकारात्मक प्रस्तुति

  21. Sonakshi Gautam - December 11, 2019, 5:56 pm

    Nice 👏👏👏

  22. Abhishek kumar - December 12, 2019, 1:09 pm

    Nice poem.

  23. Anurag Shukla - December 13, 2019, 4:16 pm

    👌👌👌👌✌✌✌✌

  24. Anurag Shukla - December 13, 2019, 4:22 pm

    👌👌👏👏

  25. Anurag Shukla - December 13, 2019, 4:23 pm

    💯💯

  26. Anurag Shukla - December 13, 2019, 4:25 pm

    🙋‍♂️🙋‍♂️

  27. Anurag Shukla - December 13, 2019, 4:25 pm

    Good

  28. Abhishek kumar - December 14, 2019, 5:48 pm

    सुन्दर रचना

  29. Ganesh Ji - December 14, 2019, 6:43 pm

    😄😄😄😄

  30. Sonu Sweta - December 15, 2019, 8:38 am

    Sudar

  31. Arihant Ji - December 15, 2019, 11:05 am

    Waaah

  32. Sonu Sweta - December 15, 2019, 11:45 am

    Sundar rachna

  33. Monu Sharma - December 15, 2019, 11:53 am

    Nice

  34. Saumya Rathi - December 15, 2019, 11:59 am

    Nice

  35. Rahul Rohla - December 15, 2019, 1:24 pm

    Good

Leave a Reply