सर्दी है बर्फ़ सी ठंडी

ठंडी-ठंडी पवन चल रही
भीगा-भीगा सा मौसम है,
सूर्य-देव ही कृपा करें
अब निकला जाता दम है
सर्दी है बर्फ़ सी ठंडी
मौसम भी कितना नम है,
सूर्य-देव से कहूं धूप भेज दें,
यहां धूप कितनी कम है
_____✍️गीता


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 5, 2021, 2:59 pm

    बेहतरीन

  2. Satish Pandey - January 5, 2021, 9:33 pm

    ठंडी-ठंडी पवन चल रही
    भीगा-भीगा सा मौसम है,
    सूर्य-देव ही कृपा करें
    अब निकला जाता दम है।
    —– बहुत सुंदर पंक्तियाँ, यह कवि गीता जी की सहज अभिव्यक्ति है। बहुत खूब

  3. Geeta kumari - January 5, 2021, 10:03 pm

    सुंदर समीक्षा हेतु बहुत-बहुत धन्यवाद सतीश जी।

  4. Devi Kamla - January 5, 2021, 10:54 pm

    बहुत खूब

  5. MS Lohaghat - January 5, 2021, 10:57 pm

    बहुत सुंदर रचना

Leave a Reply