सवाल

पहले खयाल ए ख्वाब भी आस-पास न थे,
आज तुमसे मिलके ज़िन्दगी ख्वाब हो गई है॥

चन्द जवाब थे मगर सवाल आस-पास न थे,
आज तुमसे मिलके ज़िन्दगी सवाल हो गई है।।
राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 12, 2019, 3:27 pm

    वाह

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 12, 2019, 7:24 pm

    वाह जी वाह

  3. Poonam singh - September 12, 2019, 9:26 pm

    Good

Leave a Reply