सांझ

सांझ हुई,दीपक जलाओ
आयंगे प्रियतम तुम्हारे

हैं अँधेरे पंथ में जो
है वही चांदनी हमारी

सांझ हुई दीपक जलाओ

-विनीता श्रीवास्तव(नीरजा नीर)-

Related Articles

Responses

New Report

Close