सारथी

सारथी

ना जीत में ना हार में
हैं मजा बस प्यार में
कदम कदम बढाये चलो
राह से ना तुम हटो
हे बलशाली हे दयावान
सत्य वचन पर‌ डटे रहो
कलयुग कि धारा को
अन्ततः खदेड़ दो
भाव बुध्दि के समर्थ से
वीर तुम लडे चलो

महेश गुप्ता जौनपुरी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 19, 2019, 5:55 pm

    Sundar rachana

  2. Poonam singh - September 19, 2019, 9:37 pm

    Nice one

  3. ashmita - September 19, 2019, 10:45 pm

    Nice

Leave a Reply