सावन स्पेशल

बदरा घिर घिर आयी देखो अम्बर के अंसुअन बरसे है
कोई न जाने पीर ह्रदय की पी के मिलन को हिय तरसे है
यह मधुमास यूँ बीत न जाये नैनों से झरता सावन है
जब से पत्र तुम्हारा आया भीगा भीगा सा तन मन है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

H!

2 Comments

  1. Mohit Sharma - June 27, 2019, 8:32 pm

    bahut ache ashmita ji

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 10:47 am

    लिंग पर थोड़ा ध्यान दें

Leave a Reply