साहित्य हो समाज के लिए

साहित्य है केवल वह रचना,
जिससे प्रकट हो समाज की सच्चाइयाॅं।
भाषा और शिल्प भी उत्तम हो,
दिलो-दिमाग पर असर डालने का हो गुण
समाज का भला हो, हो यही भावना ।
प्रस्तुत करे जीवन की सच्चाई,
प्रभावित कर सके जन-जन के मन को
यही उद्देश्य हो , हो यही सद्भावना।
आनंद भी आए उसमें,
वफ़ाओं की दास्तान हो
कुछ सच्चाइयाॅं हों और कुछ कल्पना भी विद्यमान हो।
प्रेम में मिलन का या विरह का हो वर्णन,
या फिर बरसात के सौंदर्य में इंद्रधनुष का हो दर्शन
निराशा और आशा पर लिखकर,
जीत सके काव्य किसी का भी मन।
ऐसा हो साहित्य कि उसमें,
दिखे समाज का दर्पण॥
_____गीता कुमारी

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

“काशी से कश्मीर तक सद्भावना यात्रा सन1994”

“काशी से कश्मीर तक सद्भावना यात्रा सन1994” किसी भी यात्रा का उद्देश्य सिर्फ मौजमस्ती व् पिकनिक मनाना ही नहीं होता | यात्राएं इसलिए की जाती हैं…

Responses

    1. सुंदर और प्रेरक समीक्षा हेतु आपका बहुत-बहुत धन्यवाद सतीश जी हार्दिक आभार सर

New Report

Close