सुधार निशदिन

बहुत ही है मुश्किल
औरों में सुधार लाना
बेहतर है खुद को ही
निश दिन सुधारते जाना

काम बहुत है सारे
हर दिन पांव पसारे
कुछ कर नाम कमाते
तो कोई कल पर टारे

दिन यूं ही गुजरते चले जाते
कुछ फुरसत कहां कभी पाते
कई आराम से नित न अघाते
कुछ उन्हें देख चिंतित हो जाते

बीमारी खड़ी मुंह बाए
चंचल को कम ही सताये
आलसी शिकार हुआ जाये
कारण कब समझ में आये

परिवार के ही दोनों अंग
इक आगे नित ही बढ़ाए
इक बिना कुछ किये ही
कर्मठ को नित ही सताये

स्वस्थ वो ही जो प्रयत्नशील
काम करे औरों से कराये
निकम्मा तो हर दिन जले
कटु बातों से पर को सताये

अच्छी सोंच से हर इंसान
आगे को सदा बढ़ता जाये
मधुर मुस्कान नित ही बिखेरे
पर के कष्टों को हरता जाये

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. स्वस्थ वो ही जो प्रयत्नशील
    काम करे औरों से कराये
    निकम्मा तो हर दिन जले
    कटु बातों से पर को सताये

    अच्छी सोंच से हर इंसान
    आगे को सदा बढ़ता जाये
    मधुर मुस्कान नित ही बिखेरे
    पर के कष्टों को हरता जाये
    बहुत ही उम्दा पंक्तियां
    बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति 👏👏👏

  2. “बहुत ही मुश्किल औरों में सुधार लाना, बेहतर है खुद को ही निश दिन सुधारते रहना ” वाह सर मनुष्य को प्रेरणा देती हुई बहुत सुंदर रचना।
    बहुत सुंदर प्रस्तुति ।

  3. अच्छी सोच से हर इंसान
    आगे को सदा बढ़ता जाये
    मधुर मुस्कान नित ही बिखेरे
    पर के कष्टों को हरता जाये।
    लाजवाब पंक्तियाँ हैं सर। आज की बेहतरीन कविताओं में आपकी कविता है। आपकी कविता में बनावटीपन बिल्कुल नहीं है। वाह वाह

  4. बहुत ही सुंदर भाव अभिव्यक्ति
    वास्तव में अगर हम खुद की कमी सुधार लें तो जमाना अपने आप सुधर जाएगा

New Report

Close