सुना दे मन मीत एक कविता (पद छन्द)

सुना दे मन मीत एक कविता
जिससे हो झंकार हृदय में, और बहे सुख सरिता।
दूरी रख ले उलझन मुझसे, ऐसी कह दे कविता।
भर दे थोड़ा सा आकर्षण, मुझे बना दे ललिता।
बन जायें खुशियाँ साजन सी, मैं बन जाऊँ वनिता।
कानों में हो मधुर मधुर धुन, ऐसी सुना दे कविता।
*******
काव्यस्वरूप – पद रूप में।

Related Articles

नवविवाहिता का पति को भाव–समर्पण…….

मेरे साजन तुम्हारा अभिनन्दन ————————————– मेरा सजने को है जीवन–आँगन मेरे साजन तुम्हारा अभिनन्दन… भाव–विभोर मेरे नैनन में स्वप्न ने ली अँगड़ाई है- जो लिखी…

Responses

  1. बन जायें खुशियाँ साजन सी, मैं बन जाऊँ वनिता।
    कानों में हो मधुर मधुर धुन, ऐसी सुना दे कविता
    ______ कवि सतीश जी की पद छंद शैली में रूमानियत भरी हुई बहुत ही मधुर रचना….लाजवाब अभिव्यक्ति

New Report

Close