सुप्रभात लिखते लिखते

सुप्रभात लिखते -लिखते
फिर से सबेरा हो गया ।
उपालम्भ आया फिर भी
आखिर ऐसा क्या हो गया?


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Satish Pandey - December 5, 2020, 8:40 am

    वाह वाह, बहुत खूब

  2. Piyush Joshi - December 5, 2020, 11:14 am

    वाह वाह

  3. Antariksha Saha - December 5, 2020, 1:45 pm

    suprabhat

  4. Geeta kumari - December 6, 2020, 7:06 am

    बहुत सुंदर अभव्यक्ति है भाई जी

Leave a Reply