स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त

*15 अगस्त का महापर्व*

कभी सोने की चिड़िया सा,
ये हिंदुस्तान हमारा था !
जमी पर जैसे जन्नत था,
जगत जग-मग सितारा था !
लुटेरों ने इसे न जाने,
कितनी बार है लूटा !
जुड़ा है टूट कर के ये,
जुड़ा और जुड़ के फिर टूटा !

कहानी न महज समझो,
नही कोई है ये किस्सा !
नही इतिहास ये पूरा,
फकत छोटा सा है हिस्सा !
अभी भूले नही थे हम,
पिछले/मुगली प्रशाशन को !
नज़र अंदाज़ कर सकते नही,
गोरे कुशाशन को !

तृषित था तंत्र भारत का,
ग्रषित ग्रामीण और शहरी !
समय का चक्र ये देखो,
की बिल्ली दूध की प्रहरी !
अतिथि देवो भवः की ये धरा,
फिर भी रही ठहरी !
हमारे पूर्वजों के शान पे,
थी चोट अब गहरी !

उठा भूचाल भूतल पर,
उगे लंगड़ी शमा के पर !
अब फूटी क्रोध की ज्वाला,
औ टूटे सब्र के सागर !
जने तब लाल भारत में,
अपनी जननी की कोखो से !
तपा अब जर्रा-जर्रा था,
दिखीं लपटें झरोखों से !

इरादे जीतने का लेके,
बच्चा बच्चा था आया !
चुनी अब राह सबने वो,
जिसे था जो भी है भाया !
उऋण हो गोद भारत माँ की,
अब बहशी फिरंगी से !
हराई शूरमों ने तोपे,
बस तलवार नंगी से !
कोई हंस कर चढ़ा फांसी,
कोई था वीरगति पाया !
उन्ही वीरों-शहीदों ने,
देश आज़ाद करवाया !

हटी बरसों की जिल्लत,
जब तिरंगा नभ पे लहराया !
सभी ने साथ मिलकर था,
ये बन्दे मातरम गाया !
हमारे उन शहीदों ने,
हमें ये दिन है दिखलाया !
वही ये ऐतिहासिक दिन
*स्वतंत्रता दिवस/15 अगस्त* कहलाया !

हुआ हर *सै* मृदा से अंकुरित,
इस राष्ट्र मधुबन में !
हुए हर्षित थे *जन, गण, मन*
प्रफुल्लित हो उठे मन में !

हमारे पूर्वजों/ *शहीदों*
ने जब,
हमें ये दिन था दिखलाया !
वही इतिहास ने हमको,
*स्वतंत्रता दिवस* बतलाया !!

🙏🙏🙏
धीरेन्द्र प्रताप सिंह “धीर”
*भूत पूर्व सैनिक*
रायबरेली उत्तर प्रदेश

Related Articles

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. मै एक भूतपूर्व सैनिक और सावन पर नया हूँ यदि मेरी कविता पसंद आये तो लाइक और कमेंट कीजिये !
    जय हिन्द जय भारत 🙏🙏🙏

New Report

Close