हरसिंगार

हरसिंगार
———–
रात भर महकता, संवरता करता इंतजार,
तड़प कर बिखर जाता धरा पर ….
होकर बेकरार।
खिल जाती धरा,
मुस्कुराकर कहती
आओ केसरिया बालम
हरसिंगार!


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 7, 2021, 9:20 pm

    अतिसुंदर भाव

Leave a Reply