हराम है

कविता -हराम है
——————-
हराम है,
आराम मेरा,
आ आराम करले,
जाॅन हैरान मेरा|
ख्याल रखले,
एक पल मेरी,
तुझसे भिन्न न
पहचान मेरी|
तेरे ख्याल में,
खुद ख्याल खो बैठा हूं,
हे आत्मा-
खुद पहचान बनाने में,
तुमसे पहचान बनना,
आज भूल बैठा हूं|
————————–
***✍ऋषि कुमार “प्रभाकर”—-


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply