हरियाली और खुशहाली रहे

मेरा भारत मेरा देश
उन्नति को बढ़े,
हर तरफ हरियाली
और खुशहाली रहे।
दूध की नदियां बहें
खेत सोना उगल दें,
मेघ जल वर्षा करें,
वृद्धजन हर्षा करें,
युवा मंजिल को पायें
हर घड़ी मुस्कुराएं,
धर्म पथ पर चलें सब
कर्म पथ पर चलें सब।
न भूखा कोई सोये
सभी के तन वसन हों
न टूटें दिल किसी के
सभी के सब मगन हों।
पेड़ फल से लदे हों
स्रोत जल से भरें हों
नैन हों झील जैसे
नील जल से भरे हों।
मेरा भारत मेरा देश
उन्नति को बढ़े,
हर तरफ हरियाली
और खुशहाली रहे।

Related Articles

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

  1. मेरा भारत मेरा देश
    उन्नति को बढ़े,
    हर तरफ हरियाली
    और खुशहाली रहे।
    दूध की नदियां बहें
    खेत सोना उगल दें,
    ____________ पूरी कविता इतनी सुंदर है की समझ ही नहीं आ रहा कौन कौन सी पंक्तियों को हाईलाइट करूँ। भारत देश की उन्नति, वृद्धजनों की खुशियां और देश के सभी लोगों की खुशहाली की कामना करती हुई अत्यंत श्रेष्ठ रचना, अति उत्तम लेखन।

    1. इस बेहतरीन समीक्षा हेतु बहुत बहुत धन्यवाद गीता जी। आपकी समीक्षा प्रेरणादायक है।

New Report

Close