हर्फ़ ब हर्फ

आजकल हर्फ़ ब हर्फ तोल परख कर लिखतीं हूं
न जाने कौन सा मायना निकाल ले दुनिया!!


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. Satish Pandey - September 28, 2020, 9:29 pm

    वाह क्या बात है। दो पंक्तियों की इतनी जीवंत कविता बहुत कम देखने को मिलती हैं। आपकी लेखनी बेहतरीन हैं।हर्फ़ ब हर्फ में भाषागत सौंदर्य निखर रहा है।

  2. Geeta kumari - September 28, 2020, 10:24 pm

    बहुत ख़ूब, क्या बात है

  3. प्रतिमा चौधरी - September 29, 2020, 12:36 am

    लाजवाब लेखनी

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 29, 2020, 7:15 am

    बेहतरीन

  5. MS Lohaghat - September 29, 2020, 8:12 am

    बहुत बढ़िया

  6. मोहन सिंह मानुष - September 29, 2020, 1:42 pm

    लाजवाब

Leave a Reply