हवाओं में पतंग की तरह उड़ने को जी करता है

हवाओं में पतंग की तरह उड़ने को जी करता है
बैठकर लहरों की बाहों में तैरने को जी करता है
जी करता है पा लूं ऊंचाई आसमा की
पाताल की गहराई नापने को जी करता है|

Related Articles

ठान लूँ गर

ठान लूँ गर मैं तो कुछ भी कर सकती हूँ ठान लूँ गर मैं तो असंभव भी संभव कर सकती हूँ ठान लूँ गर मैं…

चलो पतंग उड़ाएं

चलो पतंग उड़ाएं लूट लें, काट लें पतंग उनकी सभी रंगीनियां अपनी बनायें चलो पतंग उड़ाएं चलो पतंग उड़ाएं। उनके चेहरे की खुशियों को चुराकर…

Responses

New Report

Close