हवाओं में पतंग की तरह उड़ने को जी करता है

हवाओं में पतंग की तरह उड़ने को जी करता है
बैठकर लहरों की बाहों में तैरने को जी करता है
जी करता है पा लूं ऊंचाई आसमा की
पाताल की गहराई नापने को जी करता है|

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

In One Word.....Butterfly!

5 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - April 10, 2019, 1:23 am

    बहुत खूब

  2. Antariksha Saha - April 11, 2019, 12:15 am

    Very good

  3. Poonam singh - April 11, 2019, 12:22 pm

    Nice

  4. राही अंजाना - April 12, 2019, 4:36 pm

    बढ़िया

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:17 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply