हाथ में जीवन

हाथ में रेखा
रेखा में जीवन
जीवनt रेखा हाथ में।
पर है जीवन
और मरन
एक ईश्वर के हाथ में।।
हाथ मिलाने से पहले
सोच लो एक बार।
वायरस और बैक्टीरिया
है बीमारी के आधार।।
गर मिलाया
फिर सेनिटाइज करो।
हाथ मूंह छूने से पहले
पहले यही रिभाइज करो।।
महामारी है कोरोना
अपना खुद बचाव करो।
हाथ में है जीवन तेरे
अच्छा नित बरताव करो।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Geeta kumari - April 8, 2021, 1:12 pm

    हाथ में रेखा
    रेखा में जीवन
    जीवन रेखा हाथ में।
    पर है जीवन
    और मरन
    एक ईश्वर के हाथ में….

    महामारी है कोरोना
    अपना खुद बचाव करो।
    हाथ में है जीवन तेरे
    अच्छा नित बरताव करो।।
    ______ कवि विनय चंद शास्त्री जी की अति उत्तम रचना, इसमें उन्होंने बताया है बेशक जीवन मरण ईश्वर के हाथ में है, लेकिन आजकल के कोरोना के माहौल में जीवन मरण कुछ हद तक अपने हाथ में भी है। कोरोना महामारी से बचाव के लिए उचित संदेश देती हुई अति उत्तम रचना , उम्दा लेखन।

  2. Satish Pandey - April 8, 2021, 4:19 pm

    महामारी है कोरोना
    अपना खुद बचाव करो।
    हाथ में है जीवन तेरे
    अच्छा नित बरताव करो।।
    — बहुत सुंदर पंक्तियाँ और लाजवाब कविता है। वाह वाह

  3. Piyush Joshi - April 8, 2021, 4:28 pm

    बहुत सुंदर कविता

  4. Devi Kamla - April 8, 2021, 10:11 pm

    बहुत खूब

  5. Pragya Shukla - April 8, 2021, 10:57 pm

    हाथ में रेखा
    रेखा में जीवन
    जीवनt रेखा हाथ में।
    पर है जीवन
    और मरन
    एक ईश्वर के हाथ में।।
    हाथ मिलाने से पहले
    सोच लो एक बार।
    वायरस और बैक्टीरिया
    है बीमारी के आधार।।

    बहुत ही सुंदर पंक्तियां

Leave a Reply