हास्य ब्यंग्य कविता- थक गया मै |

हास्य ब्यंग्य कविता- थक गया मै |
बढ़ गया लोकडाउन घर मे पक गया मै |
माँजकर बरतन झाड़ू पोंछा थक गया मै |
करता था कभी श्रीमती जी के आराम को |
करके रोज चूल्हा चौकी घर नच गया मै |
बच्चे संभालो खाना बनाओ मैडम खुश है |
फुरसत ना मिले काम कभी झक गया मै |
कब खत्म होगा कोरोना बाजार नजारा होगा |
मिली ना गरम चाय माथा मथ गया मै |
जरूरी है रहना घर मे कोरोना खतरा बाहर|
धो धो कर साबुन हाथ आधा कट गया मै |
कहती श्रीमती जी गए गर बाहर रिपोर्ट करूंगी |
सुन सुन कर बात मैडम नथनी नथ गया मै|
कहती लगे न मन किताब पढ़ो कविता लिखो |
मन ना लगे कविताई आधा झटक गया मै |
बाजार बंद शहर बंद मोहल्ला बंद क्या करे |
बिना शब्जी चटनी बेस्वाद खाना गटक गया मै |
हे प्रभु अब तो रहम करो कोरोना खत्म करो |
खिले हंसी सबके मुख इसी सोच महक गया मै |
श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286
व्हात्सप्प्स -8210525557

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close