हिन्दी कविता – नाम हिंदुस्तान हमारा |

हिन्दी कविता – नाम हिंदुस्तान हमारा |

हिन्दी कविता – नाम हिंदुस्तान हमारा |
नाम हिंदुस्तान हमारा होगा काम तमाम तुम्हारा |
रहो अपनी औकात बुरा होगा अनजाम तुम्हारा |
हर तरफ घिर चुके निगाहों सबकी गिर चुके तुम |
टकराए जो हमसे तुम टूटेगा यूं गुमान तुम्हारा |
हमारी चिंता छोड़ो अपनी बदहाली गरीबी देखो |
करके हमे लहूलुहान पहुंचा कहा मुकाम तुम्हारा |
भेजा तुमने कितने कातिल हमारे कत्ल के वास्ते |
पहुंचाया दहसतगर्दो जहन्नुम छिना मुस्कान तुम्हारा |
चाहा था करेगा बदनाम हमे मगर खुद ही हो बैठा |
घर के मामले उठाया बाहर हुआ नुकसान तुम्हारा |
भेजा था जिसे बनाने पत्थरबाज़ हमारे भाइयो को |
दबोचा अपनी मुट्ठी उसे खुदेगा कब्रिस्तान तुम्हारा |
रोज शेखिया बघारना छोड़ दे धमकाना छोड़ दे |
सम्हालेगा ना एक वार मिटेगा आतंकिस्तान तुम्हारा |
मिला ना चैन तुम्हें हुआ टुकड़ा बांग्ला देश बना |
बंद करो साजिसे छुट ना जाए ब्लूचिस्तान तुम्हारा |
श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,
मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

12 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - October 20, 2019, 1:11 am

    बहुत सुन्दर

  2. nitu kandera - October 20, 2019, 6:02 am

    Nice

  3. NIMISHA SINGHAL - October 20, 2019, 10:22 am

    Jai Hind jai hind ke Saina

  4. Poonam singh - October 20, 2019, 4:53 pm

    Jai hind

  5. Abhishek kumar - November 25, 2019, 12:16 am

    👏👏

Leave a Reply