हिन्दी कविता- राम लीला

हिन्दी कविता- राम लीला

हिन्दी कविता- राम लीला
जलाना बुराई जलाओ पुतला रावण जलाने से क्या फायदा |
मन रावण को मारो नकली रावण जलाने से क्या फायदा |
रहे सलामत सम्मान साहित हर घर की बहू बेटियाँ देश मे |
बन जाये सभी मर्यादा श्रीराम कानून बनाने से क्या फायदा |
जलाओ धु धु भ्र्स्टाचार अत्याचार पापाचार युग बदलना है |
ज्ञान विज्ञान पोथी पतरा केवल पढ़ने रटाने से क्या फायदा |
लोभ लालच वासना काम क्रोध कपट के वस सभी है यहा |
बुराइया खुद ही मिटाओ दोष गैरो गिनाने से क्या फायदा |
एक रावण राम ने मारा लाखो रावण पैदा हुये सब तरफ |
सब बन जाओ राम अब रामलीला दिखाने से क्या फायदा |
जिनको समझते है दानव उनको मानव बनाए हम सभी |
दिल अपने बसालों राम अब रावण जलाने से क्या फायदा |
श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,
मोब /वाहत्सप्प्स -995550928
Email – [email protected]

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - October 10, 2019, 2:02 am

    बहुत खूब

  2. राही अंजाना - October 10, 2019, 9:42 am

    वाह

  3. Poonam singh - October 10, 2019, 7:24 pm

    Wahh

  4. NIMISHA SINGHAL - October 11, 2019, 7:57 am

    Sahi baat

  5. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 11, 2019, 8:19 pm

    वाह बहुत खूबसूरत

Leave a Reply