हिन्दी कविता-हार न जीत का जश्न |

हिन्दी कविता-हार न जीत का जश्न |

0

हिन्दी कविता-हार न जीत का जश्न |
हुआ फैसला राम मंदिर नहीं हार न जीत जशन करे |
बना रहे अमन चैन वतन राम रहीम सब नमन करे |
विवाद सैकड़ो सालो काअब सबने मिल खत्म किया |
मिला झोली जिसके जो भी सब उसका जतन करे |
मंदिर राम बने अयोध्या मे बने मस्जिद भी जरूरी है |
मिटाकर गीले शिकवे बन के भाई आओ भजन करे |
सदियो रहे मिलके आगे भी दस्तूर ये जींद रहे हमारा |
लाख चाहे कोई करना अलग मिल सब समन करे |
है मक्का मदीना इबादतगाह पाक घर खुदा का |
अयोध्या है जन्म भूमि श्रीराम बने मंदिर प्रयत्न करे |
जीत लेते किला दुशमन जश्न मनाते ढ़ोल नगाड़ो से |
हुआ फैसला भाई से भाई का क्यो मन मगन करे |
लिखा गया स्वर्ण अक्षरो नाम इतिहास पंच जजो का |
दिया फैसला ऐतिहासिक मिल विकाश वतन करे |
दूरियाँ दिलो दूर करना है बढ़ी खाइयाँ अब भरना है |
बने भव्य मंदिर राम अयोध्या संकल्प मनन करना है |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

12 Comments

  1. राही अंजाना - November 10, 2019, 6:55 pm

    Waah

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 10, 2019, 7:09 pm

    वाह

  3. NIMISHA SINGHAL - November 10, 2019, 8:01 pm

    Nice

  4. nitu kandera - November 11, 2019, 8:17 am

    Wah

  5. nitu kandera - November 11, 2019, 8:17 am

    Good

  6. Abhishek kumar - November 24, 2019, 9:10 am

    वाह

Leave a Reply