हिन्द की आभूषण

नैतिकता हिन्द की आभूषण है,
परिचायक इसके प्रभु रामजी हैं l
सीतामैया अग्नि परीक्षा दी l
कैसी ये नैतिकता थी ?
स्वार्थरहित पीड़ा थी l
मैया में सभ्य समाज की लालसा थी l
यह लीला स्वच्छल धर्म की नींव थी l
ये तो नैतिकता की परीकाष्ठा थी ll
नैतिकता हिन्द की आभूषण है,
श्रीकृष्ण इसके परिचायक है l
युद्ध में अर्जुन का मार्ग दर्शन l
बहुतो के लिए अनैतिकता था l
पर ये नैतिकता का बर्जस्व था l
अधर्म पर विजय का मार्ग था l
धर्म का ओजसपूर्ण वाणी था l
अंधेरे पर रोशनी का प्रहार था ll
नैतिकता हिन्द की आभूषण है,
परिचायक कर्मवीर है l
नैतिकता हमें कर्मठ बनाता l
आलस्य की जगह नहीं होता l
इसमें स्वाभिमान है बसता l
कर्मवीर नैतिकता से जीता l
नैतिकता सभ्य समाज का आधार होता l
निजी पीड़ा का अस्तित्व नहीं होता ll
नैतिकता हिन्द की आभूषण है,
परिचायक कर्मवीर है l
नैतिकता हर युग में सर्वश्रेष्ठ है l
नैतिकता को हमने भूला है l
नैतिकता समाज की जरूरत है l
चलो नैतिकता को  प्रखर बनाते l
नैतिकता की शाक बनाएं l
नैतिकता से दुनिया को झुकाएं ll


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - June 4, 2020, 9:31 am

    सुंदर भाव

  2. Pragya Shukla - June 4, 2020, 11:25 am

    👌👌

  3. Panna - June 6, 2020, 12:45 pm

    nice

  4. Abhishek kumar - July 13, 2020, 12:01 am

    👏👏

Leave a Reply