हे रावण

हर दौर में अधर्म का प्रारम्भ एक नव-चरण होता रहा l
हर एक युग में “हे रावण” तेरा नव-अवतरण होता रहा l
हर बार अग्नि परीक्षाओं से गुजरी सीता सती सी नरियाँ ,
किसी न किसी रूप में औरत का यूँ अपहरण होता रहा l आखों पर पट्टी बांधकर इन्साफ तो तख़्त पर बैठा रहा ,
भरी सभा में किसी पंचाली का यूँ चीर-हरण होता रहा l
हर दौर में भरोसा तोड़कर पीठ में हैं खँजर उतारे गए ,
हर घर में कोई तो घर का भेदी वभीषण होता रहा l
पाप कितना बलवान हो पर यह बात बिल्कुल सत्य है ,
हर एक युग में राम से ही पराजित यह रावण होता रहा l


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

“बेजुबानों की कुर्बानी”

खूब मनाओ तुम खुशी(कुंडलिया रूप)

हे ऊपरवाले ! तू अब तो जाग..

*बेटी का विश्वास*

3 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - October 22, 2020, 11:25 pm

    बहुत खूब

  2. Rakesh Raj Bhatia - October 23, 2020, 7:42 am

    जी शुक्रिया आपका

Leave a Reply