हो तुम कहाँ

बारिश कि बूंदे
दिल का ऐ आलम
हो तुम कहाँ..हो तुम कहाँ
फूलों की डाली,भवरों का मंडर
महकती ये वादी,सावन की ये हरियाली
हो तुम कहाँ..हो तुम कहाँ

खींचा चला जा रहा हूँ तेरी खुशबू पर
तुम हो जाने कहाँ किस मोड़ पर
लिपट के तेरी जूल्फों से आज मैं खेलूँगा
भीगी पलकों से काजल चूराऊंगा
हो तुम कहाँ..हो तुम कहाँ

मुश्किलें हैं इस कदर क्या मैं बयां करू
दिल मेरा तरसे तुम्हें देखने को आंहे भरू
निगांहे तरकश गई है तुम्हें देखने को
अब आ भी जाओ वफा की है तुम से
हो तुम कहाँ..हो तुम कहाँ

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close