हौसला बढ़ाओ

मत सुनो उनकी जो नकारात्मकता से भरे है
पतझड़ में तलाश करो अभी भी कुछ पेड़ हरे है
भीम की तरह कमजोरियों में प्रहार करते रहे
हौसला बढ़ाओ उनका जो घन की घोर घटाओं से डरे है

Related Articles

जय शिवशंकर गौरीशंकर

जय शिवशंकर गौरीशंकर पार्वतीशिव हरे-हरे (2) रामसखा प्रभु राम के स्वामी, विष्णुवल्लभ भोलेनाथ । जय शिवशंकर गौरीशंकर, पार्वतीशिव हरे-हरे (2) ।।1।। कैलाशपति प्रभु औढ़रदानी, नीलकंठ…

Responses

New Report

Close