हौसला बढ़ाओ

मत सुनो उनकी जो नकारात्मकता से भरे है
पतझड़ में तलाश करो अभी भी कुछ पेड़ हरे है
भीम की तरह कमजोरियों में प्रहार करते रहे
हौसला बढ़ाओ उनका जो घन की घोर घटाओं से डरे है

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

दुर्लभ पेड़

स्वतंत्रता दिवस काव्य पाठ प्रतियोगिता:- बहुत सारी वनस्पतियों में, बस एक ही है वो जादुई पेड़! हरा -भरा ,घना -निराला, अलग-अलग सी कलियां उसकी, खुबसूरत…

Responses

New Report

Close