हौसले

हाथ की आड़ी टेड़ी लकीरें
क्या खाख बताएगी तकदीरे
उड़ जा होंसलों के आसमान में
क्या बिगड़ लेंगी जर्ज़र समाज की जंजीरे
🌋🗽♨️✈️🚀⏳️

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - October 1, 2019, 7:51 am

    Sahi baat

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 1, 2019, 9:29 am

    वाह जी वाह

  3. Poonam singh - October 1, 2019, 3:26 pm

    Good

  4. Ishwari Ronjhwal - October 1, 2019, 4:25 pm

    Very nice

  5. nitu kandera - October 4, 2019, 10:59 am

    Very nice

  6. Kandera Fitness - October 4, 2019, 3:06 pm

    😘

Leave a Reply