“ग़ज़ल लिक्खूँगा!”

“ग़ज़ल लिक्खूँगा!”

ღღ_मैं भी लिक्खूँगा किसी रोज़, दास्तान अपनी;
मैं भी किसी रोज़, तुझपे इक ग़ज़ल लिक्खूँगा!
.
लिक्खूँगा कोई शख्स, तो परियों-सा लिक्खूँगा;
ग़र गुलों का ज़िक्र आया तो, कमल लिक्खूँगा!
.
बात ग़र इश्क़ की होगी, तो बे-इन्तहा है तू;
ज़िक्र ग़र तारीख का होगा, तो अज़ल लिक्खूँगा!
.
मैं लिक्खूँगा तेरी रातों की, मासूम-सी नींद;
और अपनी बेचैन करवटों की, नक़ल लिक्खूँगा!
.
हाँ ज़रा मुश्किल है, तुझे लफ़्ज़ों में बयां करना;
फिर भी यकीन मानो साहब, मुकम्मल लिक्खूँगा!
.
ये जानता हूँ “अक्स”, कि तुझे झूठ से नफरत है;
इसलिए जो भी लिक्खूँगा, सब असल लिक्खूँगा!!….#अक्स


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

4 Comments

  1. Sridhar - August 27, 2016, 10:55 pm

    kya baat he ankit ji

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:41 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply