“ग़ज़ल होती है”

“ग़ज़ल होती है”

ღღ_महबूब से मिलने की, हर तारीख़ ग़ज़ल होती है;
महफ़िल में उनके हुस्न की, तारीफ़ ग़ज़ल होती है!
.
ग़ज़ल होती है महबूब की, बोली हुई हर बात;
आशिक के हर ख्वाब की, तकदीर ग़ज़ल होती है!
.
गर आज़माओ तो ज़ंजीर से, मज़बूत है ग़ज़ल;
तोड़ना हो तो विश्वास से, बारीक़ ग़ज़ल होती है!
.
आशिक़ के दिल की आह भी, होती है इक ग़ज़ल;
कहते हैं कि मोहब्बत की, तासीर ग़ज़ल होती है!
.
‘अक्स’, कलमकार की कलम का, तावीज़ है ग़ज़ल;
अग़र नाम हो जाये, तो हर नाचीज़ ग़ज़ल होती है!!….#अक्स


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

4 Comments

  1. Neelam Tyagi - August 28, 2016, 1:39 pm

    आशिक के हर ख्वाब की, तकदीर ग़ज़ल होती है!….ekdam sahi kahan aapne

Leave a Reply