ज़िद्दी

ये दिल बहुत ज़िद्दी है मेरा!
ग़मों की दौलत जमा करता है;
चोट दिल पर हो या जिस्म पर
हर ज़ख्म पे ग़ुमांं करता है।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - September 17, 2019, 11:27 pm

    वाह

  2. राम नरेशपुरवाला - October 29, 2019, 10:17 pm

    सुन्दर

Leave a Reply