‎international‬ knowledge day

जो समाज में समता का समर्थक है
जो देश का विकास चाहता है
जो अंधकार की जगह प्रकाश चाहता है
जो अंध विश्वास ,पाखंड ,भेदभाव हटाना चाहता है
जो सामाजिक दीवारों को तोड़ना चाहता है
जो धर्म ,संप्रदाय और जाति से उठकर
इंसान को इंसान से जोड़ना चाहता है
वह अंबेडकर का समर्थक होगा
वह
किसी खांचे में बंटा नही होगा
न वह धर्म होगा
न वह वर्ग होगा
न जाति होगा
वह जोंक की तरह समाज से लिपटा हुआ
उसको चूसेगा नहीं
वह समाज को ऑक्सीजन देगा
जीने का साधन देगा
वह पिछड़ों को आगे लाएगा
वह सीढियां बन जाएगा
जिन पर चढ़ चढ़ कर लोग
उन्नति की राहों पर चलने लगेंगे
लोग बोधिसत्व बनने लगेंगे ।

तेज
‪#‎अंबेडकर‬ जयंती
‪#‎international‬ knowledge day
Straight from Tokyo ,Japan

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in New Delhi, India

Leave a Reply