‎international‬ knowledge day

जो समाज में समता का समर्थक है
जो देश का विकास चाहता है
जो अंधकार की जगह प्रकाश चाहता है
जो अंध विश्वास ,पाखंड ,भेदभाव हटाना चाहता है
जो सामाजिक दीवारों को तोड़ना चाहता है
जो धर्म ,संप्रदाय और जाति से उठकर
इंसान को इंसान से जोड़ना चाहता है
वह अंबेडकर का समर्थक होगा
वह
किसी खांचे में बंटा नही होगा
न वह धर्म होगा
न वह वर्ग होगा
न जाति होगा
वह जोंक की तरह समाज से लिपटा हुआ
उसको चूसेगा नहीं
वह समाज को ऑक्सीजन देगा
जीने का साधन देगा
वह पिछड़ों को आगे लाएगा
वह सीढियां बन जाएगा
जिन पर चढ़ चढ़ कर लोग
उन्नति की राहों पर चलने लगेंगे
लोग बोधिसत्व बनने लगेंगे ।

तेज
‪#‎अंबेडकर‬ जयंती
‪#‎international‬ knowledge day
Straight from Tokyo ,Japan

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close