15 अगस्त का पर्व है (स्वतंत्रता दिवस प्रतियोगिता)

हर देश – वासी की ज़ुबान पर,
आज जय – हिन्द का नारा है।
ना .डाले कोई बुरी नज़र,
ये वीरों ने ललकारा है ।
कारगिल का युद्ध हो,
या हो घाटी गलवान
खड़े मिलेंगे हर कदम पर,
वीर सैनिक बलवान
चीन हो या पाकिस्तान,
नहीं झुकेगा हिंदुस्तान।
सैनिक दल ,उरी का बदला ले के आया,
अभिनन्दन भी वापिस पाया।
भारत की जमीं पर,
तिरंगा सदा फहराएंगे।
जीत का परचम, यूं ही लहराएंगे।
इंडो – तिब्बतन बॉर्डर पर भी,
गूंजा जय – हिन्द का नारा है।
वीर – जवानों का जोश देखो,
6000फुट के शिखर पर,
फहराया तिरंगा प्यारा है।
ये पंद्रह अगस्त का पर्व है,
हमको भारत पर गर्व है।
आओ मनाएं इसे शान से,
शुरू करें राष्ट्रीय – गान से।
तिरंगे में लिपट कर जो आए,
उन शहीदों को सलाम।
उनकी शहादत एक कर्ज है,
उनको नमन, उनको प्रणाम।
वीर शहीदों की कुर्बानी,ना जाए बेकार
आओ हम सब मिलकर बोलें,
भारत मां की जय – जयकार।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

    1. मैडम जी प्रतियोगिता के लिए कविता पाठ रिकॉर्ड करके सावन को वाटसप करना है
      आज 12 बजे तक

New Report

Close