ओमप्रकाश चंदेल, Author at Saavan - Page 3 of 5's Posts

वंदेमातरम् गाता हूँ

»

वंदेमातरम् गाता हूँ

वंदेमातरम् गाता हूँ

»

मुद्दा हर रोज़ नया निकलता है चुनावी षड़यंत्रों से

»

जय भारती!

जय भारती!

»

मैं अपनी मर्जी से नहीं आया था

मैं अपनी मर्जी से नहीं आया था

बाबा साहेब की १२५ जंयती पर शुभकामनाएं मैं अपनी मर्जी से नहीं आया था न उनकी मर्जी से जाऊंगा। युग-युग तक सांसे चलेंगी अब, मैं विचारों में जिवित रह जाऊंगा। गर आ जाए मृत्यु सम्मुख मेरे मैं तनिक नहीं घबराऊंगा। किताबों की गठरी खोल, यमदुतों को पढ़ाऊंगा। ओमप्रकाश चंदेल”अवसर” रानीतराई पाटन दुर्ग छत्तीसगढ़ 7693919758   »

जंजीर है मज़दूर के पास, खोने के लिए

जंजीर है मज़दूर के पास, खोने के लिए

»

मानव-मानव को नीच कहे, ऐसा अक़्सर होता है।

»

मानव-मानव को नीच कहे, ऐसा अक़्सर होता है।

»

नमो नमो नमो बुद्धाय

नमो नमो  नमो  बुद्धाय। मन हमारा शुद्ध हो जाए। कठोर वाणी त्याग दें। सत्य सबको बांट दे। कमजोरों को हाथ दें। निर्धन का हम साथ दें। अपंग के गले लग जाएं। नमो नमो नमो बुद्धाय। विचार में प्रकाश हो। करुणा पर विश्वास हो। ज्यादा की नहीं आश हो। ज्ञान हमारे पास हो। दया धर्म हम अपनाएं। नमो नमो नमो बुद्धाय।। मद से हमारा नाता न हो। झूठ हमको आता न हो। पाप से हम सब दूर रहें। कर्मों से हम सब सूर रहें।। थोड़े में ही... »

नमो नमो नमो बुद्धाय

  »

Page 3 of 512345