किसान कि वेदना

किसान की वेदना

खुले आसमान के तले
रोटी का निवाला लिए
ऑखो में बेरुखी
नाप रहे धरती की छाती
ना सोने के लिए हैं शीश महल
ना रहने को हैं राजमहल
किसान के लिए हैं एक विकल्प
करो या मरो धरती के आंचल में
सुनहरे सपनो के संग सोना
खेत से जीना खेत में मरना
लाठी के सहारे चलना
रस्सी के संग फॉसी चढ़ना
नहीं हैं आसान कुछ भी
किसान बनना सबके बस की नहीं
किसान के संग बदसलूकी करना
किसान के संग धोखा करना हैं
हर चीज पैसे से नहीं तौला जाता
भूखी रोटी किसान से ही मिलता
चलो एक कदम बढाये हम
किसान का हक दिलाये हम

महेश गुप्ता जौनपुरी
मोबाइल – ९९१८८४५८६४

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply