रक्षा करना बहना का

रक्षा करना बहना का

सूत के बन्धन का
प्यार के रिस्तो का
भाई बहन के दुलार का
बचपन की ठिठोली का
टूटने ना देना
रिस्ते की बुनियाद को
रक्षा करना बहना का

दरिन्दो की आड़ से
ज़ुल्मी संसार से
दहेज के प्रहार से
भोलेपन ठगहार से
मनचलो के क्रुर से
तानाशाही ससुराल से
रक्षा करना बहना का

बहकते कदम को
चलती जुबान को
ऑगन की लड़ाईयो से
झुठेपन की चतुराईयो से
समय की प्रवाधान का
बेवजह घुमना बाजार का
रक्षा करना बहना का

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply