पढ़ी लिखी प्रिये….

तुम पढ़ी लिखी इंग्लिश मिडियम
मैं पढ़ा लिखा शुध्द हिन्दी में

मैं खाता हूँ गेहूँ चावल प्रिये
तुम खाती पिज्जा बर्गर हो

मेरा तुम्हारा मेल हैं क्या
छुप छुप कर मिलना खेल हैं क्या

तुम रहिश जादी पैसे की बेटी
मैं वेवस लाचार किसान का बेटा

तुम हर बात को पैसे से तौलती
मैं जज्बात का संस्कार प्रिये

शौक तुम्हारे लम्बे चौड़े
मेरा कुछ शौक नहीं हैं

तुम कोका कोला पिज्जा खाती
मैं छाछ चना पर करता गुजारा

तुम शहरो की हो नूर परी
मैं गॉव का ठहरा आवारा

तुम जज्बातो को मेरे क्या समझोगी
मैं गॉव का ठहरा गॉवारी प्रिये

महेश गुप्ता जौनपुरी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply