ए खुदा ख्वाइशों का समंदर कम कर दे

ए खुदा ख्वाइशों का समंदर कम कर दे
इस तपते जिगर को बारिश मैं धुंआ कर दे
दिल मैं जो अरमान से उठते हैं
तू किसी पत्थर के तले उनको दफन कर ले
जुगनू सा चमकने कि जो ख्वाइस थी
तू स्याह अंधेरों मैं उसे कही गुम कर दे
ये जो पॉव चलते है मंज़िल की तरफ
तू पत्थरों की ठोकर से लहू कर दे
ये जो अरमान जीने के बाकी है
तू किसी कब्र मैं इनको दफन कर दे
जिंदगी के इस लंबे सफर को
इन रास्तों मैं कही गुम कर दे
ये जो फ़ितरत है तुझसे मिलने की
तू किसी रोज़ करिश्में से इसे पूरा कर दे

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - July 18, 2018, 8:35 pm

    Waah

  2. ज्योति कुमार - July 19, 2018, 7:00 am

    सुपर

Leave a Reply