धुर सुवह का प्यार मित्रो

मधुर सुवह का प्यार मित्रो ,
मधुर सुवह का प्यार ।
नहीं मित्रता से बढ़ कोई ,
है कोई उपहार ।

सदा मित्रता भाव हृदय में ,
प्रेम-सुधा बरसाते ।
रोम रोम हर्षाता , हर पल ,
दुर्लभ अपनत्व लुटाते ।
जानकी प्रसाद विवश

प्यारे मित्रो ,
सुमंगलकारी , मधुर सवेरे की
अपार प्रेम पगी ,शुभकामनाएँ ,
सपरिवारसहर्ष
स्वीकार करें ।
आपका अपना मित्र
जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Dimple - November 20, 2017, 9:06 am

    Good Morning

Leave a Reply