Mera Pata…

ये नज़्म पोछ के आँखों से..

इन्हें कानों में पहन लो तुम,

तो एक आवाज़..

दौड़ के पास आएगी,

और..मेरा पता गुनगुनाएगी.

फुरसत हो तो आ जाना .

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - August 13, 2019, 9:42 pm

    वह

  2. Poonam singh - August 14, 2019, 1:57 pm

    Wahh

Leave a Reply