दहकती आग थी

दहकती आग थी

दहकती आग थी कुछ चिंगारियां थी
ये तो बस अपनों की ही रुसवाईयाँ थी

जो कभी पैरहन से लिपटे मेरे चारसू
अब वो न उनकी साथ परछाइयाँ थी

राजेश’अरमान’

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

हर निभाने के दस्तूर क़र्ज़ है मुझ पे गोया रसीद पे किया कोई दस्तखत हूँ मैं राजेश'अरमान '

2 Comments

  1. Anupam Tripathi - May 7, 2016, 11:19 pm

    बहुत खूब मित्र। ये दस्तखत ही दास्ताने–जिन्दगी है।
    आदमी आग हो हरदम , ये मुमकिन तो नहीं ।
    “रा…ख” के साये में ‘अं…गा…रे’ छुपे होते हैं ।।
    हर इक शख्स नहीं याद के काबिल “अनुपम” ।
    चन्द होते हैं : मसीहा , जो सलीब ढोते हैं ।।
    : अनुपम त्रिपाठी

Leave a Reply