ज़िंदगी

ज़िंदगी जब भी ठहरी लगती है
अंधी ,गूंगी और बहरी लगती है

राजेश”अरमान”

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

हर निभाने के दस्तूर क़र्ज़ है मुझ पे गोया रसीद पे किया कोई दस्तखत हूँ मैं राजेश'अरमान '

1 Comment

  1. Panna - June 25, 2016, 4:48 pm

    behatreen

Leave a Reply